Subrogation Meaning in Insurance in Hindi

Subrogation Meaning in Insurance in Hindi – हेलो दोस्तों! आज मैं आपको इस आर्टिकल में Subrogation क्या होता है और ये कैसे काम क्रिया है इस बारे में जानकारी देने वाला हूं। मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदते समय उसमें मौजूद सुब्रोगेशन क्या होता है इस बारे में बताया जाता है अगर आपने कभी मोटर इंश्योरेंस खरीद हो तो आपको जरूर पता होगा कि सुब्रोगेशन का मतलब क्या होता है।

अगर आपको नहीं पता है तो कोई बात नहीं क्योंकि आज इस आर्टिकल में हम लोग Subrogation Meaning in Insurance in Hindi के बारे में पूरी जानकारी हासिल करने वाले हैं। इसके लिए आपको इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ना है ताकि आप ज्यादा से ज्यादा इस विषय में जानकारी प्राप्त कर सकें।

Subrogation का मतलब बहुत ही साधारण सा होता है जैसे कि अगर आपके पास कोई वाहन है और आप उसे वाहन को रास्ते पर लेकर जा रहे हो और किसी दूसरे की गलती की वजह से अगर आपकी वाहन को नुकसान पहुंचती है या फिर किसी भी तरह की दुर्घटना होती है तो उसे दुर्घटना के मुआवजे के रूप में आपको इंश्योरेंस कंपनी आपका हिस्सा देगी इसका मतलब यह है कि इंश्योरेंस कंपनी द्वारा आपके उसे दुर्घटना का मुआवजा दिया जाएगा।

Subrogation Meaning in Insurance in Hindi

Subrogation एक ऐसा शब्द है जिसका इस्तेमाल हमें इंश्योरेंस पॉलिसी में देखने को मिलता है। जैसे की बीमा धारा के बीमाकृत वाहन को किसी तीसरे पक्ष की लापरवाही के वजह से हुई दुर्घटना से जो नुकसान बीमा धारक को प्राप्त होती है उसे नुकसान की भरपाई करने के लिए इंश्योरेंस पॉलिसी कंपनी आपको मुआवजा प्रदान करती है और इसी Process को हम लोग “Subrogation” कहते हैं।

Subrogation का सिद्धांत ऐसे मामलों में लागू होता है जिस मामले में किसी तीसरे पक्ष की वजह से आपकी गाड़ी को नुकसान पहुंचती है जैसे मान लीजिए आप अपने गाड़ी को बहुत ही ध्यान से और अच्छी तरीके से चला रहे हैं लेकिन कोई तीसरा व्यक्ति आपकी गाड़ी को ठेस पोहचाहता है या फिर किसी हादसे में आपकी गाड़ी को नुकसान पोहचती है तो उस नुकसान की भरपाई के लिए इंश्योरेंस आपको मुआवजा देगी।

इस प्रक्रिया में पॉलिसीधारक अपनी बीमा करता अपनी बीमा कंपनी को किसी तीसरे पक्ष से हुए नुकसान की भरपाई का दावा करने के लिए सभी कानूनी अधिकार प्राप्त कर सकते हैं अगर यह तीसरा पक्ष दुर्घटना का दोषी साबित होगा तभी उसे इंश्योरेंस पॉलिसी के द्वारा क्लेम दिया जाएगा।

Subrogation की मदद से यह बीमा करता बीमा कंपनी का एक अधिकार प्राप्त करता है और वह बीमा धारा के स्थान पर तीसरे पक्ष के खिलाफ कोई भी कार्रवाई करके किसी भी दावे के लिए भुगतान की वसूली बड़े ही आसानी से कर सकता है और उसे प्राप्त भी कर सकता है। यह Indemnity Clause के अंतर्गत आता है। Indemnity Clause का मतलब यह होता है कि बीमा कंपनी द्वारा पॉलिसी होल्डर को नुकसान के लिए भुगतान किया गया मुआवजा।

Indemnity Clause यह पॉलिसीधारक और बीमा करता के बीच का एक ऐसा कॉन्ट्रैक्ट होता है जो भी पॉलिसी धारक के गाड़ी को हुए नुकसान के लिए दवा राशि की भरपाई करने के लिए संबंधित Procedure और Obligation को दर्शाता है। Subrogation की मदद से आप अपने वाहन को बेफिक्र चला सकते हैं और इसमें अगर तीसरी पक्ष के व्यक्ति की गलती साबित नहीं हो पाती है तो इस हालत में आपको कोई भी क्लेम राशि नहीं दिया जाएगा।


Subrogation Meaning in Insurance in Hindi With Examples

Subrogation इंश्योरेंस में क्या होता है चलिए मैं आपको इसको एक उदाहरण के तौर पर समझता हूं। मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी में सुब्रोगेशन का सिद्धांत यह अलग-अलग परिस्थितियों में लागू हो सकता है।

चलिए समझ लीजिए कि किसी लापरवा हा चालक के वजह से टक्कर मार के बीमा धारक के गाड़ी को क्षतिग्रस्त कर दिया है लेकिन टक्कर मारने वाला तीसरा पक्ष अपनी गलती मानने को तैयार ही नहीं हो रहा है और आपको लग रहा है कि गलती तीसरे पक्ष की है आपकी नहीं है और इस हालत में ना तो बीमा धारक को कोई नुकसान भरपाई देने के लिए तैयार हो रहा है।

तो इस परिस्थिति में बीमा धारक उसके वाहन का नुकसान करने वाला लापरवाह तीसरे पक्ष के खिलाफ Subrogation का इस्तेमाल कर सकता है। सुब्रोगेशन के अंतर्गत बीमा कंपनी अपने बीमा धारा के स्थान पर तीसरे पक्ष के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करके किसी भी दावे की भुगतान को बड़े ही आसानी से प्राप्त कर सकता है।

सुब्रोगेशन तभी होता है जब बीमा कंपनी बीमाधारक के वित्तीय खर्चों को वहन करती है और दोषी से पूर्णभुगतान की मांग करती है। इसे हम उदाहरण के तौर पर समझते हैं मान लीजिए की वाहन चालक बीमा धारा को किसी तीसरे पक्ष के कारण हुई दुर्घटना के कारण चोटें आती है। ऐसी स्थिति में Subrogation बीमा कंपनी को बीमा धारा के स्थान पर कदम उठाने और उसकी वहां को हुए नुकसान के लिए दोषी पद से मुआवजा मांगने की पूरी कानूनी कार्रवाई कर सकती है और यह अधिकार इंश्योरेंस कंपनी की ओर से पूरा दिया जाता है।


Subrogation कैसे काम करता है?

Subrogation यह बीमा क्षेत्र में एक बहुत ही सामान्य सा प्रक्रिया होता है जिसमें तीन पक्ष शामिल होते हैं बीमा कंपनी, पॉलिसीधारक और नुकसान के लिए जिम्मेदार तीसरा पक्ष। सुब्रोगेशन की प्रक्रिया तब शुरू होती है जब पॉलिसी धारक तीसरे पक्ष की लापरवाही के कारण हुई दुर्घटना में हुई छाती लागत के लिए भी बीमा कंपनी में Claim करता है।

और जब ऐसा होता है तो बीमा कंपनी वसूली करने के लिए तीसरे पक्ष को कानूनी कार्रवाई करती है और उससे बीमा धारा के हुई नुकसान की भरपाई करने के लिए पूरी राशि देने की मांग करती है। बीमा करता वसूली की प्रक्रिया शुरू करने से पहले दोषी पूर्ण व्यक्ति जो की थर्ड पार्टी है उसे पर मुकदमा करने के लिए पॉलिसीधारक से कानूनी अधिकार मांगता है।

विमित व्यक्ति बीमाकर्ता को उसकी ओर से तीसरे पक्ष पर मुकदमा करने के लिए एक बीमाधारक के रूप में उसके पास जो भी कानूनी अधिकार प्राप्त होते हैं उन सभी कानूनी अधिकार की मदद से बीमा कंपनी को हस्तत्रित करता है और इसी प्रक्रिया को हम लोग Subrogation कहते हैं। और और तीसरे पक्ष से वसूली की प्रक्रिया शुरू करने से पहले बीमा कंपनी को पॉलिसीधारक द्वारा मांगी गई दावा राशि का भुगतान भी करना होता है।

Subrogation के प्रकार क्या है?

Subrogation के अंतर्गत भी आपको अलग-अलग प्रकार देखने को मिलते हैं और सुब्रोगेशन आमतौर पर बीमा में तीन प्रकार से बाटा गया है इसके बारे में एक-एक करके मैं आपको नीचे बताने वाला हूं।

न्यायसंगत सुब्रोगेशन क्या होता है?

न्यायसंगत सब्रोगेशन बीमा पॉलिसीयों में सबसे आम सुब्रोगेशन में से एक होता है जहां पर एक बीमा कंपनी तीसरे पद से दवा राशि वसूल करती है जिसने विमित वाहन को नुकसान पहुंचा है। अधिकांश मामलों में अन्य पद शामिल होते हैं जैसे कि कुछ अपवाद मौजूद होते हैं जैसे बाढ़ या भूकंप के कारण क्षति होना उन परिस्थितियों में सब्रीगेशन नहीं किया जा सकता है।

संविदात्मक सुब्रोगेशन क्या होता है?

एक संविदात्मक अधीनता को प्रारंभिक प्रत्यावर्तन के रूप में भी जाना जाता है जहां पर बीमा करता द्वारा बीमा करता की प्रति अपना अधिकार खो देने के बाद बीमा करता को तीसरे पक्ष पर मुकदमा करने के लिए बीमा धारक के स्थान पर खड़ा होना पड़ता है और कभी-कभी बीमाधारक मन की शांति के लिए सुब्रोगेशन को जारी नहीं रखना चाहता है तो उसे स्थिति में संविदात्मक अधीनता के माध्यम से बीमा करता नुकसान की भरपाई के लिए तीसरे पक्ष के खिलाफ मुकदमा दायर कर सकता है।

वैधानिक सुब्रोगेशन क्या होता है?

जैसा कि मैं आपको दो ऊपर सुब्रोगेशन के बारे में बताया वैज्ञानिक सब लोकेशन उन दोनों सब लोकेशन के विपरीत होता है वैधानिक सुब्रोगेशन में तीसरे पक्ष के कारण विमित वाहन को होने वाले नुकसान को कवर करने के लिए बीमा कंपनी शामिल नहीं होती है। इस मामले में बीमा धारक और दूसरा पक्ष दोनों बीमा कंपनी को शामिल किए बिना ही आपस में नुकसान की रकम की भरपाई करने के लिए समझौता कर सकते हैं। अगर दोनों पक्ष में किसी भी तरह से बात अगर नहीं बढ़ती है और यह प्रक्रिया अन्य दो उपयोगी की तुलना में ज्यादा सरल माना जाता है।


Subrogation के पश्चात ध्यान में रखें कुछ बाते

  • कुछ बीमा कंपनी सब्रीगेशन की प्रक्रिया में कटौती योग राशि शामिल करती है जैसे कि कुछ ऐसी भी बीमा कंपनियां है जो सुब्रोगेशन की प्रक्रिया के अंतर्गत अपना भी चार्ज लेती है।
  • Subrogation का सिद्धांत ऐसी स्थिति में लागू होता है जिसमें पॉलिसी धारक को किसी तीसरे पक्ष की चूक के कारण नुकसान हुआ हो अगर पॉलिसी धारक का नुकसान तीसरे पक्ष की वजह से नहीं हुआ है फिर भी पॉलिसी धारक तीसरे पक्ष पर कानूनी कार्रवाई करना चाहता है तो इस स्थिति में आपको कोई भी क्लेम राशि नहीं दी जाएगी।
  • पॉलिसी धारक एक साथ तीसरे पक्ष और बीमा कंपनी इन दोनों से नुकसान भरपाई का दावा नहीं कर सकता है।
  • सुब्रोगेशन से विमित व्यक्ति का नुकसान पहुंचाने वाले व्यक्ति (जो की थर्ड पार्टी होगा) उस पर मुकदमा करने और नुकसान की वसूली का अधिकार समाप्त नहीं हो जाता है।
  • बीमा करता तब तक सब Subrogation नहीं प्राप्त कर सकता है जब तक की बीमाधारक को पूरी तरह से क्षतिपूर्ति नहीं दी जाती है।

FAQs on Subrogation Meaning in Insurance in Hindi

Q1. इंश्योरेंस में सुब्रोगेशन का मतलब क्या होता है?

इंश्योरेंस में सब्रोगेशन का मतलब एक ऐसा प्रक्रिया होता है जो बीमा धारक को हुए नुकसान की भरपाई करने के लिए तीसरे पक्ष पर कानूनी कार्रवाई किया जा सके और उससे बीमा धारक को हुए नुकसान की भरपाई मिल सके उसे हम लोग सुब्रोगेशन कहते हैं।

Q2. सुब्रोगेशन के कार्य के पीछे क्या उद्देश्य है?

सुपर्जिकेशन के कार्य के पीछे उद्देश्य दूसरे पक्ष की गलती के कारण हुए नुकसान की भरपाई करना होता है और ऐसे मामलों में तीसरे पक्ष के बीमा करता को स्वयं नुकसान के लिए दवा राशि का भुगतान करना चाहिए।

Q3. अगर मैं किसी की कार को नुकसान पहुंचा हूं और सब्रोगेशंस की अपेक्षा करूं तो फिर क्या होगा?

सबसे पहली बात की ऐसा करना कानूनी अपराध हो सकता है क्योंकि अगर आपकी वजह से किसी भी व्यक्ति की वाहन को नुकसान पहुंचता है तो यह फर्ज बनता है कि आप उसे व्यक्ति को उसके नुकसान की भरपाई करो ना की उसे व्यक्ति से नुकसान की भरपाई मांगो ऐसी स्थिति में आपको सुब्रोगेशन नहीं मिलेगा और कंपनी द्वारा भी आपको कुछ नहीं दिया जाएगा।


Conclusion on Subrogation Meaning in Insurance in Hindi

तो दोस्तों आज हमने इस आर्टिकल में सब्रोगेशन का मतलब क्या होता है (Subrogation Meaning in Insurance in Hindi) के बारे में सारी जानकारी हासिल की और मुझे पूरी उम्मीद है की आपको सब्रोगेशन क्या होता है और इसका इस्तेमाल किस लिए किया जाता है यह तो जरूर समझ आगया होगा।

अगर आपके जीवन में भी ऐसी परिस्थितियों आती हैं तो आप सब लोकेशन की मदद से सामने वाले व्यक्ति से अपने हुए नुकसान की भरपाई ले सकते हैं।

Leave a Comment